जहां कभी गूंजती थी नक्सलियों के गोलियों की आवाज, अब लोग सुनते हैं पीएम के मन की बात

गढ़वा

जिले का अति उग्रवाद प्रभावित क्षेत्र भण्डिया के कुल्ही जंगल में सीआरपीएफ ने नक्सलियों के खिलाफ जनक्रांति का बिगुल फूंका है. जिस जगह माओवादियों आकर विनाश की रणनीति बनाते और सफल करते थे. वहां अब सीआरपीएफ विकास का तराना लिख रहे है.

11 सितम्बर को पिकेट की स्थापना के बाद पहली बार वहां सिविक एक्शन कार्यक्रम किया गया. उग्रवाद प्रभावित इस क्षेत्र के 500 से ज्यादा लोग भयमुक्त होकर कार्यक्रम में शरीक हुए. बता दें कि जिला मुख्यालय से 105 किलोमीटर दूर कुल्ही जंगल है. जिसे उग्रवादियों का सेफ जोन माना जाता था. छत्तीसगढ़ी की सीमा से सटे ऊंची पहाड़ी और कुलवंती नदी के पाट के बीच बसे इस जगह से उग्रवादी झारखंड और छतीसगढ़ के नक्सल गतिविधियों का संचालन करते थे. अब इस जगह पर सीआरपीएफ का पिकेट बन गया है. जहां से शांति और अमन की जिंदगी बांटी जा रही है.

सुनाया गया मन की बात

सीआरपीएफ ने ग्रामीणों को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मन की बात कार्यक्रम को सुनाया. जिसमें प्रधानमंत्री ने पाकिस्तान की सीमा में घुसकर सर्जिकल स्ट्राइक की जानकारी दी. सेनाओं की वीरता की कहानी सुनाई. कैम्प के बाहर तीन दिशाओं में माइक लगाकर अन्य ग्रामीणों को भी मन की बात में सुनाई गई.

मेडिकल कैम्प में दी गयी जिंदगी की सौगात

सीआरपीएफ ने मेडिकल कैम्प का आयोजन कर लोगों को काफी राहत दी. कुल 150 मरीजों का इलाज कर उन्हें स्वस्थ्य जीवन प्रदान किया गया. साथ ही सीआरपीएफ ने गरीब ग्रामीणों को उनके जरूरत की चीजें भी उपलब्ध करायी. उन्हें बर्तन, गैस चूल्हा, कपड़ा और कई जीवनोपयोगी समान दिए जा चुके हैं. वहीं, बच्चों ने बताया कि जब वे स्कूल जाने के लिए घर से निकलते थे तो उग्रवादी उन्हें पकड़कर ले जाते थे. वे डराते रहते थे. अपना काम कराते थे. इस कारण उन्होंने स्कूल जाना छोड़ दिया था. सीआरपीएफ बच्चों को पढ़ाई के लिए निःशुल्क कॉपी और पेन उपलब्ध करा रही है. बच्चों को पढ़ने का हौसला दे रही है. बच्चे भी पढ़कर साहब और टीचर बनने का लक्ष्य तय करने लगे हैं.

सीआरपीएफ 172 बटालियन के कमांडेंट सत्येन्द्रनाथ मिश्र ने कहा कि सीआरपीएफ के लिए यहां का समाज ही उनका अपना परिवार है. उनकी तकलीफ में सहायक बनना सीआरपीएफ अपना धर्म समझते है. जनता की सुरक्षा उनकी प्राथमिकता है. यह इलाका बूढापहाड़ से जुड़ा हुआ है. यहीं से नक्सली अपनी गतिविधियां चलते थे. अब यहां से उनके खिलाफ अभियान शुरू हो गया है. 

(कैपिटल न्यूज़ पलामू को लाइव देखने और एप डाउनलोड करने के लिये यहां क्लिक करें)

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र होकर निर्भीक और निष्पक्ष पत्रकारिता...

Share This Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *