गढ़वा : दहेज़ के नाम पर मौत पर कब लगेगा विराम ?

गढ़वा ब्रेकिंग न्यूज़

गढ़वा : आज पूरी दुनिया में अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस मनाया जा रहा है. महिलाओं के सम्मान में कई कार्यक्रम आयोजित किये जा रहे हैं, लेकिन इन सब से अलग गढ़वा वंशीधर नगर से एक ऐसी खबर सामने आ रही है. जो सामाजिक कुरीतियों पर कालिख पोत रही है, अब इससे शर्मनाक क्या हो सकता है, कि अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के दिन दहेज की वजह से महिला को जिंदा जला देने की बात सामने आए. 1 साल पहले भवनाथपुर की प्रतिमा अपने मन मे सैकड़ो सपने सँजोये. धनन्जय के आसरे अपना घर परिवार सब कुछ छोड़ नयी जिंदगी की शुरुवात की, मन मे कई अरमान थे जो अधूरे लगने लगे थे, क्योंकि शादी के बाद से ही दहेज का दबाव प्रतिमा को झेलना पड़ रहा था. उसने सब कुछ सहा, उसे लग रहा होगा कि शायद समय के साथ सब ठीक हो जाएगा, पर होनी को कुछ और मंजूर था. दहेज लोभियों की प्रताड़ना इतनी बढ़ गयी कि प्रतिमा को जिंदा जला दिया गया .

शादी के महज चंद दिनों के बाद से ही दहेज में मिले सामानों  का उलाहना प्रतिमा को सुनना पड़ता था, मायके से कुछ और समान मंगवाने का प्रताड़ना भी झेल रही प्रतिमा और उसके पति में इसी बात को लेकर शुरू से विवाद होते रहता था, पर प्रतिमा को पता नही था कि ये विवाद उसकी जान ले लेगी. दहेज की आग में उसे जिंदा जला दिया जाएगा.

थाना परिसर में हुलहुला खुर्द के सैकड़ो ग्रामीण पहुँचे. दबे जुबान से सभी प्रतिमा की मौत की वजह दहेज बता रहे थे. पुलिस ने मामला भी दर्ज कर लिया औऱ जल्द दहेज लोभियों की गिरफ्तारी भी कर लेने का भरोसा परिजनों को दिया.

(कैपिटल न्यूज़ पलामू को लाइव देखने और एप डाउनलोड करने के लिये यहां क्लिक करें)

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र होकर निर्भीक और निष्पक्ष पत्रकारिता...

Share This Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *