आंगनबाड़ी सेविका के चयन करने गए अधिकारियों को ग्रामीणों ने बनाया बंधक

पांकी  : आंगनबाड़ी सेविका के चयन करने गए अधिकारियों को ग्रामीणों ने करीब एक घंटे तक बंधक बनाये रखा. मामला पांकी प्रखंड के डंडार पंचायत स्थित बसडीहा गाँव का है.

आंगनबाड़ी सेविका के चयन करने गए अधिकारियों को ग्रामीणों ने बनाया बंधक






 
पांकी  : आंगनबाड़ी सेविका के चयन करने गए अधिकारियों को ग्रामीणों ने करीब एक घंटे तक बंधक बनाये रखा. मामला पांकी प्रखंड के डंडार पंचायत स्थित बसडीहा गाँव का है, जहाँ आंगनबाड़ी केंद्र में सेविका पद के लिए चुनाव कराने गए. प्रखंड विकास पदाधिकारी सह अंचलाधिकारी फुलेश्वर मुर्मू महिला प्रवेक्षिका रंजना यादव सहित अन्य अधिकारियों को सैकड़ों ग्रामीणों ने चुनाव स्थल के समीप करीब 1 घंटे तक बंधक बनाये रखा. काफी समझाने बुझाने एवं प्रशासन की मदद से लगभग 1 घंटे के बाद अधिकारियों को मुक्त कराया गया. जानकारी के अनुसार सेविका पद के लिए बसडीहा गांव के कुल 8 अभ्यर्थियों ने आवेदन किया था. चयन संबंधित नियमावली को बताते हुए 8 अभ्यर्थियों में से सबसे उच्च योग्यता धारी बबीता देवी का चयन कर उसे औपबंधिक चयन प्रमाण पत्र दे दिया गया. औपबंधिक प्रमाण पत्र देने के बाद ग्रामीण काफी उग्र हो गए. ग्रामीणों ने कहा कि बबीता देवी की शादी बसडीहा गांव में मात्र 2 दिन पहले हुई है और  विवाह प्रमाण पत्र भी फर्जी है उसके प्रमाण पत्र सहित विवाह प्रमाण पत्र की जांच कर ही चयन प्रक्रिया पूरी करने की मांग पर ग्रामीन अड़ गये और काफी शोरगुल एवं धक्का-मुक्की को देख  प्रखंड विकास पदाधिकारी और महिला प्रवेक्षीका अपने वाहन से निकलने लगे. लेकिन  ग्रामीणों ने देवी मंडप के समीप उनके वाहन को घेर लिया इस दौरान ग्रामीण चयन प्रक्रिया रद्द करने की मांग पर करीब 1 घंटे अड़े रहे, बाद में प्रशासन की दबिश एवं अधिकारियों के द्वारा काफी समझाने बुझाने के बाद मामला शांत हुआ व अधिकारियों को मुक्त कराया गया.