ट्रक-स्कॉर्पियो की टक्कर, विधायक भानु प्रताप शाही के भांजे समेत पांच की मौत

ट्रक-स्कॉर्पियो की टक्कर, विधायक भानु प्रताप शाही के भांजे समेत पांच की मौत






गढ़वा: एनएच-75 पर रमना थाना क्षेत्र के परसवान बिजली सब स्टेशन के निकट रविवार की अहले सुबह करीब साढ़े चार बजे ट्रक और स्कॉर्पियों की भीषण टक्कर में चार लोगों की मौके पर ही मौत हो गई। जबकि गंभीर रूप से घायल बिहार के औरंगाबाद निवासी अभिषेक सिंह की मौत इलाज के लिए रिम्स रांची ले जाने के दौरान रास्ते में हो गई है। मृतकों में भवनाथपुर विधानसभा क्षेत्र से भाजपा प्रत्याशी विधायक भानु प्रताप शाही के भांजे यूपी के राबर्ट्सगंज जिले के नगवां प्रखंड के प्रमुख प्रशांत सिंह, यूपी के ही शक्तिनगर निवासी चेतन गिरि, बिहार के रोहतास जिले के तिलौथू निवासी उमा सिंह, भवनाथपुर थाना क्षेत्र के हरिहरपुर निवासी प्रशांत सिंह उर्फ टिकू तथा औरंगाबाद निवासी अभिषेक सिंह का नाम शामिल हैं।

जानकारी के अनुसार भानु के भांजे प्रशांत सिंह कृषि उत्पादन बाजार समिति गढ़वा परिसर में चुनाव को ले बने वज्रगृह में शनिवार की रात मतदान के बाद जमा की जा रही ईवीएम सील किए जाने के बाद देर रात को गढ़वा से स्कॉर्पियो से भवनाथपुर लौट रहे थे। गढ़वा से लौटने के दौरान सभी लोग भाजपा नेता कोरगा निवासी अजय सिंह के यहां चाय पीने के लिए रुक गए। यहां से अहले सुबह करीब सवा चार बजे भवनाथपुर के लिए चले। इसी दौरान परसवान गांव में बिजली सब स्टेशन के निकट श्रीबंशीधर नगर की ओर से आ रहे एक ट्रक से स्कॉपियो की जोरदार टक्कर हो गई। टक्कर इतनी जोरदार थी कि स्कॉर्पियों की परखच्चे उड़ गए। हादसे में प्रशांत समेत चार लोगों की मौके पर ही मौत हो गई। वहीं अभिषेक सिंह गंभीर रूप से घायल हो गया। घटना के बाद ट्रक चालक गाड़ी सड़क किनारे खड़ा कर वहां से भाग निकला। इसी बीच रास्ते से गुजर रहे सांसद प्रतिनिधि श्रीबंशीधर नगर निवासी शिवकुमार पांडेय ने इसकी जानकारी श्रीबंशीधर नगर के एसडीपीओ अजित कुमार को दी।

वहीं घटना के बाद गुजर रहे एक कंटेनर चालक की मदद से चक्का खोलने वाले लिफ्टर से स्कॉर्पियों के गेट का लॉक तोड़कर प्रशांत सिंह, उमा सिंह तथा अभिषेक को गाड़ी से बाहर निकाला। तब तक पुलिस वहां पहुंच चुकी थी और प्रशांत समेत गाड़ी से निकाले गए तीन लोगों को सदर अस्पताल गढ़वा भेजा गया। यहां चिकित्सकों ने प्रशांत तथा उमा सिंह को मृत घोषित कर दिया। साथ ही गंभीर रूप से घायल अभिषेक का प्राथमिक उपचार के बाद बेहतर इलाज के लिए उसे रिम्स रेफर कर दिया। गाड़ी में फंसे दो अन्य प्रशांत सिंह उर्फ टिकू तथा चेतन गिरि के शव को गैस कटर से काट कर गाड़ी से निकाला गया। घटना की खबर पूरे इलाके में आग की तरह फैल गई। सूचना मिलते ही विधायक भानु प्रताप शाही व इसके पिता प्रशांत सिंह के नाना पूर्व मंत्री लाल हेमेंद्र प्रताप देहाती सदर अस्पताल पहुंचे। यहां प्रशांत सिंह समेत मृत अन्य लोगों का शव देखते ही भानु दहाड़ मारकर रोने लगे। जबकि हेमेंद्र प्रताप देहाती बेहोश गए। जैसे-जैसे इस घटना की जानकारी लोगों को मिलती गई, लोगों की भीड़ सदर अस्पताल में जुटने लगी। लोग भानु प्रताप शाही तथा इनके पिता को ढांढस बंधा रहे थे। सभी मृतकों के शव का पोस्टमार्टम किए जाने के बाद उनके परिजन को सौंप दिया गया। सदर अस्पातल परिसर में काफी भीड़ लग गई थी। कई राजनीतिक दलों के नेता व कार्यकर्ता भी पहुंचे थे।