image not available एक घंटे तक गोलीबारी में दो सौ चक्र चली गोलियां | Capital News Palamu

एक घंटे तक गोलीबारी में दो सौ चक्र चली गोलियां

चंदवा (लातेहार) : चंदवा थाना क्षेत्र के सेरक गांव के निदरा जंगल में पुलिस और टीपीसी उग्रवादी के बीच हुई मुठभेड़ में उग्रवादी जंगलों का लाभ लेकर भाग निकले। लेकिन एक उग्रवादी पुलिस की जाल में फंस गया। पेड़ की ओट लेकर वह पुलिस पर फायरिग कर अपने को बचाने की फिराक में था। पुलिस की एक गोली उसकी आंख के ऊपरी हिस्से को भेदती निकली और वह मारा गया। मुठभेड़ के बाद मुठभेड़ स्थल से पुलिस ने एक एके-47, गोलियां, कंबल, जूते, बैग व अन्य सामान बरामद किए। मुठभेड़ के बाद पुलिस द्वारा चलाए जा रहे सर्च अभियान के दौरान किसी को भी उधर जाने की इजाजत नहीं दी जा रही थी।

बता दें कि झारखंड जगुआर के डीसी जेजेडी सी मंगा कश्यप के नेतृत्व में अभियान चलाया जा रहा था। इसमें सैट व जिला पुलिस बल के जवान भी शामिल थे। सब जोनल कमांडर के रूप में मृतक की पहचान : मारे गए उग्रवादी की पहचान टीपीसी के सब जोनल कमांडर दीपक यादव (कसमार थाना, पाली, पलामू) के रूप में की गई। पुलिस के अनुसार वह टीपीसी उग्रवादी संगठन में सब जोनल कमांडर रैंक में था जो वर्ष 2019 में जेल से बाहर निकला था। जेल से बाहर आने के बाद वह फिर से संगठन में शामिल होकर उग्रवादी गतिविधियों को अंजाम दे रहा था। बतौर मजिस्ट्रेट बीडीओ अरविद कुमार के निर्देशन में मारे गए उग्रवादी का पंचनामा किया गया। वरीय पुलिस अधिकारी भी पहुंचे मुठभेड़ स्थल :

चंदवा थाना क्षेत्र के सेरक जंगल में पुलिस और टीपीसी उग्रवादियों के बीच मुठभेड़ की सूचना के साथ पलामू डीआईजी राजकुमार लकड़ा, एसपी प्रशांत आनंद, अभियान एसपी विपुल पांडेय, पुलिस निरीक्षक सह थाना प्रभारी मदन कुमार शर्मा, प्रशिक्षु एसआई राजकुमार तिग्गा, काशी महली के साथ अतिरिक्त जिला पुलिस बल भी पहुंची और मोर्चा संभाला।