image not available भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ा नवनिर्मित चेकडेम | Capital News Palamu

भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ा नवनिर्मित चेकडेम

लातेहार/महुआडांड़: -लघु सिंचाई विभाग से 61 लाख की लागत से महुआडांड़ प्रखंड के परहाटोली पंचायत के बेलवार नदी में बनाया गया एक और नवनिर्मित चेकडेम भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ गया। महुआडांड में पिछले दिनों हुईं बारिश ने महुआडांड प्रखण्ड जैसे दुरूह क्षेत्रों में संवेदक द्वारा सरकारी कार्य कैसे किया जाता है पोल खोल कर रख दिया है। बताते चलें कि लघु सिंचाई विभाग के मद से 61 लाख रुपये की लागत से परहाटोली पंचायत के बेलवार नदी में बन रहे चेकडेम का कार्य लातेहार जिले के बरवाडीह के रहने वाले संवेदक नितिन कुमार को कार्य आवंटित किया गया है। परंतु यह कार्य संवेदक नितिन कुमार स्वयं न करके पेटी कॉन्ट्रैक्ट में गुड़गुटोली महुआडांड के रहने वाले बसारत अली को दे दिया गया। यही कारण रहा कि कार्य की गुणवत्ता में और कमी हो गई और हल्की बारिश में ही यह चेकडेम बह गया। 
चेकडैम निर्माण कार्य करने का मुख्य उद्देश्य असिंचित क्षेत्र में जल प्रबंधन के लिए किया जा रहा था, परन्तु मानकों को ताक पर रखकर आधा-अधूरा निर्माण कार्य कराने के कारण ही यह घटना घटित हुई। चेक डैम के बहने का मुख्य कारण संवेदक नितिन कुमार के द्वारा उपयोग की गई हल्की गुणवत्ता की निर्माण सामग्री को भी बताया जा रहा है। ग्रामीणों का आरोप है कि जब चेक डैम बन रहा था तभी इस बात की शिकायत संबंधित अधिकारियों व प्रशासन से की गई थी, लेकिन अफसरों ने निर्माण कार्य पर ध्यान नहीं दिया जिससे बारिश के दौरान इनमें पानी आया तो निर्माण में बरती गई कमियों की वजह से चेकडैम टूट गया, आश्चर्य की बात यह है कि सब कुछ जानते हुए भी अधिकारी न तो जांच करते हैं न ही दोषियों पर कार्रवाई करते हैं जो कही न कही इनकी संलिप्तता को जाहिर करता है, वही ग्रामीणों ने इस कार्य की जांच की मांग की है। गौरतलब है कि बेलवार नदी में बनने वाला चेकडैम निर्माण में संवेदक द्वारा लगभग 30 लाख की निकासी भी कर ली गयी है।

क्या कहते है अधिकारी

वही चेकडैम बहने का कारण पूछे जाने पर लघु सिंचाई विभाग के कार्यपालक अभियंता संजय मिंज ने बताया कि निश्चित तौर पर संवेदक के द्वारा प्राक्कलन के अनुसार कार्य नहीं किया गया है। साथ ही विभाग में कार्य की अधिकता के कारण कनीय अभियंता भी कार्य की निगरानी सही ढंग से नहीं कर पाए जिससे संवेदक द्वारा कार्य में कमी की गयी और चेकडैम बहा, परन्तु कार्य अभी भी ऑनगोइंग है इसलिए संवेदक द्वारा इस कार्य को पूर्ण करने पर ही अंतिम भुगतान किया जाएगा, परंतु अभी जो 30 लाख का भुगतान किया गया है वह बह चुके कार्य के लिए नहीं किया गया है।

क्या कहते हैं संवेदक

इस संबंध में बरवाडीह के रहने वाले संवेदक नितिन कुमार से बात की गई तो उसका कहना है कि तेज बारिश के कारण चेकडेम बह गया है ।