विद्यालय है या धर्मशाला..??

पलामू

पलामू ये कोई सामुदायिक भवन या विवाह मंडप नहीँ है। यह है देश के नौनिहालों के भविष्य को गढ़ने का मंदिर। इसमें पढ़ाई की जगह बारातियों के स्वागत की तैयारी चल रही है। किसी कमरे में तोशक-तकिया, तो किसी कमरे मेँ खाने के सामान रखे गये हैं। ये हुसैनाबाद के बनियाडीह का सरकारी विद्यालय है। गाँव में किसी के घर बारात आये तो बच्चों और शिक्षकों की बल्ले-बल्ले। दो दिनों की छुट्टी पक्की। ग्रामीण भी लाचार हैं।उनके गांव में बारात ठहराने का कोई दूसरा भवन भी नही है।यही वजह है कि गाँव के सभी लोग चुप्पी साधना ही बेहतर मानते हैं। दबी जुबान से कुछ लोग इस मामले को उठाने का प्रयास भी करते हैं तो उन्हेँ अन्य ग्रामीणों का सहयोग नही मिलता।

सोमवार को बारात की वजह स्कूल बंद रहा। मंगलवार को भी बंद रहने की सम्भावना बताई जा रही है।। कुछ लोगों ने हुसैनाबाद के बीइइओ से शिकायत की। लेकिन स्थिति मे कोई बदलाव नही हुआ।जबकि राज्य सरकार के शिक्षा विभाग का स्पष्ट निर्देश है कि सरकारी विद्यालय भवन में कोई भी निजी समारोह आयोजित नहीं किया जाये।

(कैपिटल न्यूज़ पलामू को लाइव देखने और एप डाउनलोड करने के लिये यहां क्लिक करें)

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र होकर निर्भीक और निष्पक्ष पत्रकारिता...

Share This Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *