आज से 9 मई तक इन इलाकों में बारिश, आंधी-वज्रपात की चेतावनी

रांची : झारखंड में 9 मई तक बारिश होती रहेगी। मौसम विभाग ने कई शहरों में आंधी और वज्रपात की चेतावनी दी है।

आज से 9 मई तक इन इलाकों में बारिश, आंधी-वज्रपात की चेतावनी

रांची : झारखंड में 9 मई तक बारिश होती रहेगी। मौसम विभाग ने कई शहरों में आंधी और वज्रपात की चेतावनी दी है। मौसम विभाग, रांची ने अगले एक हफ्ते के पूर्वानुमान में कहा है कि राजधानी रांची, धनबाद, जमशेदपुर, चाईबासा, पलामू लोहरदगा, बोकारो, गुमला, रामगढ़ और हजारीबाग समेत कई शहरों में 9 मई तक आंधी बारिश और ठनका गिरने की संभावना है।

वज्रपात का कहर टूट पड़ा है। यहां एक दिन में छह लोगों की जान बिजली गिरने से चली गई। वज्रपात की चपेट में आकर 5 बच्‍चों और एक महिला की मौत हो गई। सोमवार को यहां मौसम इस कदर बिगड़ा कि कई इलाकों में दिन में ही रात सा नजारा दिखने लगा। मैदानी इलाकों में बादल कड़कने की तेज आवाजों के साथ कई जगहों पर ठनका गिरा। पलामू, गुमला, लोहरदगा और गढ़वा में कुल छह मौतें हो गईं।

पलामू में वज्रपात से तीन बच्चों की मौत, एक गंभीर

पलामू जिला के चैनपुर थाना क्षेत्र में सोमवार को वज्रपात की अलग-अलग दो घटना में तीन बच्चों व तीन मवेशियों की मौत हो गई। एक बच्चा बुरी तरह झुलस गया है। घायल को पलामू मेडिकल कॉलेज अस्पताल में  भर्ती कराया गया है। पहली घटना सोमवार दोपहर बाद चैनपुर प्रखंड के सेमरा पंचायत क्षेत्र अंतर्गत खुरा खुर्द गांव की है। यहां दिन के करीब डेढ़ बजे बारिश के दौरान हुए वज्रपात में दो बच्चों की मौत हो गई। मृतकों की पहचान खुरा खुर्द

निवासी जगदीश उरांव के 12 वर्षीय पुत्र आकाश उरांव व बिगन उरांव के 11 वर्षीय पुत्री मोहिता उरांव के रूप में की गई है। इस बीच वज्रपात से बुरी तरह झुलसने के कारण जगदीश उरांव का 8 वर्षीय पुत्र रामू उरांव का

पीएमसीएच में इलाज चल रहा है।

दूसरी घटना सेमरा पंचायत के खुरा कला गांव की है। यहां वज्रपात से खुरा कला निवासी विरेंद्र ठाकुर के 13 वर्षीय पुत्र विकास ठाकुर की मौत हो गई। घटना की खबर सुनते ही चैनपुर थाना की पुलिस पलामू मेडिकल कालेज पहुंची। शव काे कब्जे में लेकर अंत्यपरीक्षण कराया। इसके बाद शवों को संबंधित परिजन को सौंप दिया। अचानक हुए वज्रपात की घटना से उक्त दोनों गांव में मातम का माहौल है। प्रभावित परिजन का रो-रो कर बुरा हाल है। बताया जाता है कि सोमवार दोपहर के समय अचानक बदलते मौसम के साथ बारिश होने लगी। खुरा खुर्द गांव में कुछ बच्चे घरेलू मवेशियों को लेकर खेत में निकले थे। अचानक बारिश होने लगी। बारिश से बचने के लिए बच्चे पेड़ के नीचे छिप गए। इसी बीच वज्रपात हो गया। इसमें उक्त तीनों बच्चे इसकी चपेट आ गए।

गुमला में वज्रपात से बालक की मौत

भरनो प्रखंड के मारासीली अंबेराटोली गांव में सोमवार की सुबह में वर्षा के दौरान  वज्रपात हो जाने से बंधना उरांव का 12 वर्षीय पुत्र सूरज उरांव की मौत हो गई। वज्रपात की चपेट में आने के बाद सूरज को सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र भरनो लाया गया जहां चिकित्सक ने उसे मृत घोषित कर दिया। परिवार के सदस्यों ने बताया कि सोमवार की सुबह सूरज दरवाजे पर खड़ा था। लगभग आठ बजे मूसलाधार वर्षा होने लगी। उसी समय बिजली कड़की और ठनका गिरा। मृत सूरज के पिता बंधना उरांव अपने दो भाईयों के साथ काम करने गया हुआ है। मृत बच्चे की मां बुधनी उराइन से बताया कि उसका पुत्र मारासीली विद्यालय में कक्षा तीन में पढ़ता था। घटना की जानकारी मिलने पर बीडीओ विशाल कुमार, थाना प्रभारी सिद्धेश्वर सिंह, मुखिया माधुरी देवी ने बुधनी उराइन को हर प्रकार की मदद दिलाने का भरोसा दिलाया। पिछले 28 अप्रैल को भी तुरीअंबा गांव में वज्रपात से दो युवतियों की मौत हो गई थी।

गढ़वा में वज्रपात की चपेट में आने से दस वर्षीय बच्ची की मौत

रंका थाना क्षेत्र के शेराशाम गांव में सोमवार को दिन के करीब दो बजे वज्रपात की घटना में रामअवतार कोरवा की 10 वर्षीया पुत्री कुलवंती कुमारी की मौत घटनास्थल पर ही हो गई। जानकारी के अनुसार कुलवंती कुमारी अपने घर के बगल में स्थित कटहल के पेड़ के समीप खेल रही थी। इसी दौरान बूंदा बांदी के बीच एकाएक कटहल के पेड़ पर वज्रपात की घटना हो गई। जिसके चपेट में आने से बगल में खेल रही कुलवंती कुमारी की घटनास्थल पर ही मौत हो गई। उक्त घटना के बाद परिजन उसे बेहोश समझ कर रंका सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में इलाज के लिए लाए। जहां चिकित्सक ने उसे मृत घोषित कर दिया। इस घटना की सूचना मिलने के बाद रंका पुलिस ने शव को कब्जे में कर पोस्टमार्टम के लिए गढ़वा भेज दिया है।

लोहरदगा के सेन्हा में वज्रपात के चपेट में आने से महिला की मौत

लोहरदगा जिले के सेन्हा थाना क्षेत्र के कल्हेपाट डिपाटोली गांव में वज्रपात की चपेट में आने से एक महिला की मौत हो गई। घटना की जानकारी मिलने के बाद पुलिस मामले की जांच और आगे की कार्रवाई में जुट गई है। बताया जाता है कि कल्हेपाट डिपाटोली निवासी अच्छनदेव उरांव की पत्नी सुकरो उरांव (35 वर्ष) वज्रपात की चपेट में आने से गंभीर रूप से झुलस गई थी। इसके बाद परिजनों ने तत्काल सुकरो को सदर अस्पताल पहुंचाया। जहां चिकित्सकों ने सुकरो को मृत घोषित कर दिया। घटना के समय पति-पत्नी दोनों गेंहू के खेत मे गेंहू काटने गए थे। बारिश शुरू हुई और बादलों का गर्जन सुन कर दोनों गेंहू के खेत से घर की ओर चलने ही वाले ही थे कि सुकरो वज्रपात की चपेट में आ गई। जिससे सुकरो उरांव गंभीर रूप से झुलस गई थी। बाद में उसकी मौत हो गई। सेन्हा थाना प्रभारी वीरेंद्र एक्का का कहना है कि परिजन सदर अस्पताल ले गए थे, जहां उसे मृत घोषित कर दिया गया है। बयान के आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी। अंचलाधिकारी हरीशचंद्र मुंडा का कहना है कि वज्रपात से मौत के मामले में मुआवजा का प्रावधान है। आगे कार्रवाई की जाएगी।