50 साल बाद फिर अपने स्कूल पहुंचे पुराने छात्र, फिजा में गूंज उठा वेलकम नेतरहाट

‎बड़ी ख़बर लातेहार

लातेहार : शुक्रवार को घड़ी में शाम के 6.30 बज रहे थे। तभी विद्यालय परिसर में विद्यालय के 50 वर्ष पुराने पूर्ववर्ती छात्रों को लेकर गाडिय़ों की कतार पहुंची गाड़ियों का गेट खुलते ही नीचे उतरने से पूर्व कई पूर्ववर्ती छात्रों ने अपने विद्यालय की धरती को छूकर प्रणाम किया। इसी के साथ ही चहुंओर वेलकम नेतरहाट के शब्द गूंज उठे। इसी के साथ विद्यालय में बीते एक पखवाड़े से गोल्डेन जुबली को लेकर चल रही तैयारियों का पटाक्षेप हो गया और लोग गोल्डेन जुबली को लेकर आयोजित कार्यक्रम में शामिल हो गए।

इधर, नेतरहाट आवासीय विद्यालय में सामान्य दिनों की तुलना में हलचल बढ़ी हुई थी, विद्यालय के प्राचार्य डा. संतोष कुमार ङ्क्षसह, कोषपाल रौशन कुमार शिक्षक अनिल कुमार व डा. प्रसाद पासवान के साथ विद्यालय के 50 वर्ष पुराने छात्रों की आगवानी के लिए तैयार खड़े थे। विद्यालय के सभागार में 50 वर्ष पुराने छात्रों के पहुंचने पर सभी जगहों पर हर्ष का माहौल हो गया। विद्यालय के प्राचार्य की अगुवाई में पूर्ववर्ती छात्रों का गर्मजोशी से भव्य स्वागत किया गया।

 

देश से लेकर विदेशों तक में कार्यक्रम की चर्चा 

विद्यालय परिसर में आयोजित गोल्डेन जुबली कार्यक्रम की देश और विदेश में भी चर्चा हुई। देश और विदेश में भी विद्यालय के कार्यक्रम को प्रचारित करने में सोशल साइटों की महती भूमिका रही। कार्यक्रम से जुड़ी तस्वीर को पूर्ववर्ती छात्रों ने अपनी सोशल साइटों पर शेयर किया। इस पर भारत के बाहर रहने वाले नेतरहाट आवासीय विद्यालय के छात्रों ने सोशल साइटों पर पोस्ट की गई तस्वीरों पर कमेंट््स कर उन्हें शेयर भी किया।

पूर्ववर्ती छात्र के बच्चों में भी था कौतूहल 

गोल्डेन जुबली कार्यक्रम को लेकर पूर्ववर्ती छात्रों के बच्चों में भी खास उत्साह था। कार्यक्रम में शामिल होने आए 50 वर्ष पुराने छात्रों के बच्चे फोन पर लगातार अपने अभिभावकों के संपर्क में बने हुए थे। बच्चों के अभिभावक भी उन्हें निराश किए बिना पल-पल की जानकारी से उन्हें अपडेट किए हुए नजर आए। बच्चों की हर जिज्ञासा को शांत करने के लिए पूर्ववर्ती छात्रों ने वर्तमान के शिक्षकों से बात कराई।

(कैपिटल न्यूज़ पलामू को लाइव देखने और एप डाउनलोड करने के लिये यहां क्लिक करें)

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र होकर निर्भीक और निष्पक्ष पत्रकारिता...

Share This Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *