लातेहार : लापरवाह पदाधिकारियों पर होगी कार्रवाई : उपायुक्त

लातेहार

लातेहार : उपायुक्त राजीव कुमार की अध्यक्षता में जिले में संचालित विकास योजनाओं की विभागवार समीक्षा की गई। समीक्षा में उपायुक्त ने अधिकारियों से कहा कि आपकी कार्य क्षमता पर ही केन्द्र एवं राज्य सरकार की योजनाओं की सफलता निर्भर है,आप सभी योजनाओं के प्रति सजग होकर पूरी ईमानदारी से सफल क्रियान्वयन कर योजनाओं का लाभ अंतिम व्यक्ति तक पहुंचाने का कार्य करें। उपायुक्त ने स्पष्ट कहा कि विकास योजनाओं के प्रति लापरवाह पदाधिकारियों को किसी भी कीमत पर बख्सा नहीं जाएगा। बैठक में सड़क, बिजली, पानी, स्वास्थ्य समेत अन्य विभाग की समीक्षा कर अधिकारियों को विकास योजनाओं को जन-जन तक पहुंचाने की बात कही।

10 तक सभी विद्यालय खोलने का निर्देश : उपायुक्त राजीव कुमार ने जिला शिक्षा अधीक्षक को दस दिसंबर तक सभी विद्यालय को खोलना सुनिश्चित करने करने की बात कही। इस दौरान उन्होंने निर्देश दिया कि विद्यालय खुलवाने के लिए सरकारी तंत्र को लगाया जाएगा ताकि विद्यालय में पढ़ने वाले बच्चों को मध्याह्न भोजन समेत गुणवता पूर्ण शिक्षा मिल सके। इस दौरान उन्होंने बीडीओ एवं सीओ को विद्यालय खोलने के लिए कार्रवाई करने का निर्देश दिए।

मरीजों के परचे पर लिखकर दे परहेज की जानकारी : स्वास्थ्य सुविधा का लाभ जन-जन तक पहुंचाने को लेकर उपायुक्त राजीव कुमार ने सीएस को निर्देश दिए। इस दौरान उन्होंने आयुष्मान भारत के तहत मरीजों को निबंधन करवाने एवं उनका इलाज हो इसी भी सुनिश्चित करने की बात कही। उपायुक्त ने सीएस को निर्देश दिए कि जो भी चिकित्सक मरीजों को देखते है वे सिर्फ परचे पर दवा का ही नाम लिखे नहीं बल्कि सभी परचे पर रोगों से बचने के लिए परहेज की बातों को भी इंगित करें।

ठंड से नहीं हो किसी की मौत : उपायुक्त राजीव कुमार ने सभी अधिकारियों को निर्देश दिया कि जिले में एक भी व्यक्ति की मौत ठंड से ना हो। उन्होंने श्रम अधीक्षक को कंबल वितरण की सारी प्रक्रिया पूर्ण कर एक सप्ताह के अंदर कंबल वितरण करने का निर्देश दिया। उपायुक्त ने स्पष्ट कहा कि अगर ठंड से मौत होती है तो अधिकारी एवं कर्मी पर जबावदेही तय करते हुए सीधी कार्रवाई की जाएगी। इस दौरान उन्होंने जिले में ठंड का प्रकोप को देखते हुए अलाव की भी व्यवस्था करवाने का निर्देश दिए।

प्रत्येक पंचायत के चार युवकों को किया जाएगा प्रशिक्षित : पीएचइडी विभाग की समीक्षा करते हुए उपायुक्त ने पाया कि विभाग एवं अन्य स्त्रोतों से जिले में 20 हजार से भी अधिक चापाकल है वहीं सोलर सिस्टम से भी पानी की सप्लाई को लेकर एक हजार से अधिक टंकी निर्माण किया जा रहा है। लेकिन जिले में मिस्त्री की भारी कमी होने के कारण थोड़े खराबी होने पर भी चापाकल डेड हो जाता है।

(कैपिटल न्यूज़ पलामू को लाइव देखने और एप डाउनलोड करने के लिये यहां क्लिक करें)

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र होकर निर्भीक और निष्पक्ष पत्रकारिता...

Share This Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *