पलामू में बाहर से आए तो हो जाऐंगे क्वारेंटीन, रेड जोन वालों को होगी सरकारी भवन में खिदमत

 पलामू:- जब से उपायुक्त सह जिला दंडाधिकारी शशि रंजन का पलामू में पदार्पण हुआ है कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने हेतु जिला प्रशासन द्वारा कई कदम उठाये जा रहे हैं।

पलामू में बाहर से आए तो हो जाऐंगे क्वारेंटीन, रेड जोन वालों को होगी सरकारी भवन में खिदमत

 पलामू:- जब से उपायुक्त सह जिला दंडाधिकारी शशि रंजन का पलामू में पदार्पण हुआ है कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने हेतु जिला प्रशासन द्वारा कई कदम उठाये जा रहे हैं। जिले में पूर्व से ही हरेक क्षेत्र के लोगों का कोरोना जांच में तेजी लाने का डीसी शशि रंजन ने जहां बल दिया है, वहीं अब पलामू जिले में झारखंड राज्य के बाहर से आने वाले व्यक्तियों को कोरोना जांच कराना अनिवार्य कर दिया है। साथ ही जांच रिपोर्ट आने तक अनिवार्य रूप से सरकारी अथवा होम क्वॉरेंटाइन में ही प्रवासियों को आगंतुकों को रहना होगा।
उपायुक्त शशि रंजन ने अन्तर्राज्यीय सीमा पर तैनात सभी मजिस्ट्रेट को झारखंड राज्य के बाहर से आने वाले लोगों से उनके गंतव्य स्थान का पता नोट करने  एवं बाहरी व्यक्ति किस राज्य के किस जिले से आ रहे हैं उसकी पूरी जानकारी रजिस्टर में संधारित करने का निर्देश दिया। बुधवार को पलामू के नवनियुक्त युवा उपायुक्त शशि रंजन हरिहरगंज स्थित अंतरराज्यीय सीमा पहुंचे, निरीक्षण किया, जायजा लिया एवं निर्देश भी दिया। सभी आगंतुकों का डाटा रजिस्टर में मैंटेन करने का आदेश तो दिया ही, इतना ही नहीं संबंधित डाटा  समेकित कर उसकी एक कॉपी गोपनीय शाखा एवं संबंधित प्रखंड विकास पदाधिकारी को भेजने का निर्देश दिया। डीसी पलामू की माने तो संबंधित बीडीओ की व्यक्तिगत जिम्मेवारी होगी कि वह अपने प्रखंड में आने वाले प्रत्येक बाहरी व्यक्तियों को संबंधित जांच केंद्र में कोरोना जांच कराएंगे।
गौरतलब है कि रेड जोन में शामिल स्थानों से पलामू आने वाले  व्यक्तियों को 14 दिन तक सरकारी कोरेंटिन में रहना ही होगा वहीं अन्य जिलों से आने वाले व्यक्तियों को 14 दिन होम कोरेंटिन में रहना अनिवार्य होगा।उन्होंने सभी संबंधित पदाधिकारी को इसका अनुपालन दृढ़ता से कराने का निर्देश दिया।