रूक नहीं रहा मौत का सिलसिला

पलामू

धनकटनी से लौटते वक्त हर साल होती है मौतें

रमकंडा में पलटा ट्रक, दो महिलाओं ने तोड़ा दम

पलामू : पलामू के कलंक पलायन ने फिर दो जिंदगी को निगल लिया... रोजगार के लिए सैकड़ो मजदूर हर साल पड़ोसी राज्य बिहार में धान काटने रवाना होते हैं। परिवार समेत लोग महीने-चार महीने धनकटनी करने जाते हैं… जहाँ से मजदूरी के अलावा धान या चावल की बोरियाँ साथ लाते हैं… पर विडंबना इस बात का कि हर साल मजदूरों से भरा एक वाहन पलटता है और एक समेत कई परिवार उजड़ जाते हैं।

रोजगारन्मुख योजना की दुहाई देने वाले भाजपानीत केंद्र और सुबे की सरकार के तीसरे साल वर्ष 2018 के शुभारंभ में ही गढ़वा के रमकंडा थाना क्षेत्र के चपरी में दुर्घटना ने दो महिलाओं को अपने चपेट में ले लिया। जबकि आधा दर्जन एक ही परिवार के सदस्य गंभीर रूप से चोटिल हुए हैं। मजदूरों और उनके कमाए धान-चावल से लदे बोरे से भरा ट्रक पलट गया। जिसके बाद कोहराम मच गया।

हालांकि घायलों को पलामू जिला मुख्यालय स्थित सदर अस्पताल में भर्ती करा दिया गया है। परंतु सवाल वही है कि हर साल घटती घटना के बावजूद सरकार और प्रशासन इस पर रोकथाम क्यों नहीं लगा पा रही है…? क्या इन्हें घटना के बाद मुआवजा देकर कर्तव्य का इतिश्री कर लिया जाएगा… या फिर पलायन पर पाबंदी लग पाएगी…।।

(कैपिटल न्यूज़ पलामू को लाइव देखने और एप डाउनलोड करने के लिये यहां क्लिक करें)

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र होकर निर्भीक और निष्पक्ष पत्रकारिता...

Share This Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *