जीवन इन, अजीत आउट

पलामू

झामुमो की दावेदारी में फेरबदल

टिकट लेने में शह-मात का खेल जारी

पलामू : नगर-निकाय चुनाव में शह-मात का खेल खेला जाने लगा। डिप्टी मेयर के पद में सबसे पहले दावेदारी रखने वाले निवर्तमान उपाध्यक्ष परमेंद्र कुमार उर्फ बाबू का जेएमएम से जहाँ टिकट फिक्स माना जा रहा है वहीं मेयर के लिए जीवन प्रसाद सिंह ने भी दावा ठोंक दिया। हेमंत सोरेन से मुलाकात करने पहुंचे जिलाध्यक्ष राजेंद्र सिन्हा के साथ बाबू और जीवन सिंह ने शिष्टाचार मुलाकात के बहाने टिकट पर निशाना साध दिया। हालांकि जीवन सिंह की पत्नी मीना सिंह से पहले अजीत मेहता की पत्नी जिप सदस्य रानो देवी का नाम झामुमो के सीट के लिए नाम आया था, पर रानो देवी पर टिकट पाने के मामले में मीना सिंह भारी पड़ती दिखाई पड़ रही है…।

तस्वीर झूठ ना बोलाय ; महज एक सप्ताह में ही झामुमो के सीट में हुई बड़ी फेरबदल ने सभी प्रत्याशियों और दलों का आंखे खोलने का काम किया है। जहाँ प्रत्याशियों के लिए नाम की घोषणा से पहले सीट बरकरार रहने की गलतफहमी दूर होगी.., वहीं राजनीतिक दलों को भी प्रत्याशियों के चयन में आसानी होगी… और इतराने का मौका सर चढ़ कर बोलेगा…। पर यहां ये कहना भी गलत नहीं होगा कि तस्वीरों में झामुमो सुप्रीमो के साथ एक चेहरा खास है वो है बाबू का…। जो नाम के बाबू भले हैं पर परम स्तर के खिलाड़ी निकले…। पाला भी बदला और भनक भी ना लगी…। हालांकि अजीत मेहता ने भी हेमंत सोरेन से मुलाकात कर दावेदारी पेश की थी पर शायद कास्टिजम में घिरी राजनीतिक रणनीति में कहीं न कहीं अजीत मेहता हल्के पड़ गए, और बाबू की दावेदारी तो मजबूती से टीकी रही पर दूसरी धूरी पर जीवन सिंह अगुवाई कर आगे निकल पड़े।

भले ही जीवन संग मीना को झामुमो पेश करेगा या फिर अजीत संग रानो को… मगर दावेदारी तो मजबूती से पेश करेगा मेदिनीनगर नगरनिगम में। जहाँ जाति की गोटी, और किस करवट बैठती गिरोह की ऊंट पर हर किसी की निगाहें थमी जरूर है… यही राजनीतिक फैक्टर है।

(कैपिटल न्यूज़ पलामू को लाइव देखने और एप डाउनलोड करने के लिये यहां क्लिक करें)

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र होकर निर्भीक और निष्पक्ष पत्रकारिता...

Share This Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *