पलामू : छत्तरपुर और पांकी बैंक लूटकांड का उद्भेदन, छह डकैत गिरफ्तार

पलामू ब्रेकिंग न्यूज़

पलामू : पलामू जिले के छत्तरपुर में इलाहाबाद बैंक में लूट और पांकी की पीएनबी शाखा में लूट के प्रयास की घटना का उद्भेदन पुलिस ने कर दिया है. दोनों घटनाओं को एक ही गिरोह ने अंजाम दिया था. इसमें शामिल छह डकैतों को गिरफ्तार किया गया है. छह अभी भी फरार हैं. उनकी तलाश तेज है. छत्तरपुर के मसीहानी में गत 22 मई को इलाहाबाद बैंक में लुटपाट और 19 जून को पांकी के पीएनबी में डकैती का प्रयास किया गया था. सभी छह डकैतों ने दोनों घटनाओं में अपनी संलिप्तता स्वीकार की है. उनके पास से लूट के नगद रुपये, देसी कट्टा, गोलियां, मोबाइल और चोरी की मोटरसाइकिलें बरामद की गयी हैं.

तकनीकी सेल की सहायता से पहचान की गयी

जिले के नवनियुक्त पुलिस अधीक्षक अजय लिंडा ने बताया कि घटना के बाद पुलिस इलाहाबाद बैंक में लूटपाट और पांकी के पीएनबी में डकैती के प्रयास के मामले को चुनौती के रूप में लिया गया. छत्तरपुर, लेस्लीगंज और मेदिनीनगर डीएसपी क्रमश: शंभू सिंह, अनूप बड़ाइक और भोला सिंह के नेतृत्व अलग टीम कार्रवाई के लिए लगी रही. इसी बीच गैंग में शामिल पिपरा के अंधारीबाग निवासी एक अपराधी विक्की गुप्ता को तकनीकी सेल की सहायता से पहचान की गयी. उसको पकड़ने के बाद उसके अन्य साथियों का पता चला. छानबीन में यह भी सामने आया कि दोनों घटनाओं को एक ही गैंग ने अंजाम दिया है.

छत्तरपुर से दो और मेदिनीनगर इलाके से दो अपराधियों की गिरफ्तारी

एसपी ने बताया कि विक्की की निशानदेही पर पिपरा से दो, छत्तरपुर से दो और मेदिनीनगर इलाके से दो अपराधियों की गिरफ्तारी हुई. उन्होंने बताया कि दोनों घटनाओं में 12 अपराधियों की संलिप्तता सामने आयी है. छह पकड़ में आ गये हैं. जबकि 6 की पहचान कर ली गयी है. सभी पलामू जिले के ही निवासी हैं. फरार अपराधियों ने दो गैंग के मुख्य सरगना है. उनकी गिरफ्तारी के बाद गैंग का सफाया संभव है. एसपी ने बताया कि डकैतों का गैंग वारदात में तीन टुकड़ों में बंटे हुए थे. लुटपाट के बाद संपति पर 50-50 की हिस्सेदारी थी. एक गैंग को बैंक के अंदर लूट को अंजाम देना था, जबकि दूसरा गैंग प्लान में किसी तरह की गड़बड़ी होने पर कवर करता, जबकि तीसरे की बैंक के बाहर रेकी करने और घिर जाने पर हथियार-गोला बारूद मुहैया कराने की जिम्मेवारी थी.

आपराधिक मामले में रही है संलिप्तता

एसपी ने बताया कि गिरफ्तार अपराधियों की अन्य आपराधिक मामलों में संलिप्तता रही है. जिले के छत्तरपुर, पिपरा, मेदिनीनगर शहर थाना के अलावा बिहार के औरंगाबाद इलाके में मोटरसाइकिल चोरी की घटनाओं में सारे अपराधी शामिल रहे हैं. सभी ने बैंक लूट और लूट के प्रयास मामले में अपनी संलिप्तता स्वीकार की है. छानबीन में यह भी सामने आया है कि घटना में इस्तेमाल हथियार एवं लूटे गये रकम की बरामदगी फरार अपराधियों की गिरफ्तारी के बाद संभव है.

कौन-कौन हुए गिरफ्तार

एसपी ने बताया कि गिरफ्तार अपराधियों में विक्की के अलावा छत्तरपुर के खाटीन निवासी बिट्टू गुप्ता उर्फ पवन गुप्ता, पिपरा के पोलदाग निवासी पप्पू उर्फ आकाश पासवान, छत्तरपुर के लक्ष्मी मुहल्ला निवासी सन्नी उर्फ बिट्टू, मेदिनीनगर के पोखराहा निवासी रेहान अंसारी और सोहेल अंसारी हैं. इनके पास से एक देसी कट्टा, .315 बोर की तीन गोलियां, लूट के 70 हजार रुपये, घटना के दौरान सीसीटीवी में पहने हुए कपड़े, 6 मोबाइल फोन, घटना में प्रयुक्त तीन मोटरसाइकिल (दो चोरी की) बरामद की गयी है.

गिरफ्तारी में कौन-कौन थे शामिल

गिरफ्तारी अभियान में तीनों डीएसपी के अलावा मेदिनीनगर के पुलिस निरीक्षक दीपक कुमार, छत्तरपुर थाना प्रभारी वासुदेव मुंडा, पिपरा के महानंद सुरीन, पांकी के जीतेन्द्र रमण, सदर की दुलर चैड़े के अलावा तकनीकी शाखा के अधिकारी और जवान शामिल थे. विदित हो कि गत 22 मई को छत्तरपुर के मसीहानी में पंचायत सचिवालय में चल रहे इलाहाबाद बैंक में डकैतों ने लूटपाट की थी. नगद 2 लाख 60 हजार डकैतों को हाथ लगे थे, जबकि 19 जून की दोपहर पांकी में पीएनबी शाखा में लूट का प्रयास किया था. हरकत देखकर कर्मियों के सर्तक हो जाने से डकैत फायरिंग करते हुए मौके से फरार हो गए थे.

(कैपिटल न्यूज़ पलामू को लाइव देखने और एप डाउनलोड करने के लिये यहां क्लिक करें)

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र होकर निर्भीक और निष्पक्ष पत्रकारिता...

Share This Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *