पर्यावरण के प्रति सचेत हों लोग नहीं जलसंकट के साथ-साथ ऑक्‍सीजन को भी तरसेंगे : कौशल किशोर | Capital News Palamu
Title  पर्यावरण के प्रति सचेत हों लोग नहीं जलसंकट के साथ-साथ ऑक्‍सीजन को भी तरसेंगे : कौशल किशोर
पर्यावरण के प्रति सचेत हों लोग नहीं जलसंकट के साथ-साथ ऑक्‍सीजन को भी तरसेंगे : कौशल किशोर
Capital News Palamu


पलामू : छत्तरपुर प्रखंड मुख्यालय के डाली गांव के विश्वव्यापी पर्यावरण संरक्षण अभियान के राष्ट्रीय अध्यक्ष सह पर्यावरण धर्म व वनराखी मूवमेंट के प्रणेता पर्यावरणविद कौशल किशोर जायसवाल ने यूपी के सोनभद्र जिले के कोन स्थित जीआईसी इंटर कॉलेज में पर्यावरण धर्म पर आयोजित गोष्ठी की शुरुआत कॉलेज परिसर में पौधरोपण कर किया. जबकि कार्यक्रम का समापन वृक्षों पर रक्षाबंधन से किया गया.

पर्यावरणविद श्री कौशल ने कार्यक्रम में शामिल लोगों को पर्यावरण धर्म के आठ मुलमंत्रों की शपथ दिलाई. आज से 53 वर्ष पहले पर्यावरणविद कौशल किशोर द्वारा अपनी निजी खर्चों पर शुरू किया गया पौधरोपण व वितरण सह वनों पर रक्षाबंधन कार्यक्रम के साथ-साथ 42 वर्षों से अनवरत पर्यावरण धर्म एवं वनराखी मूवमेंट पर गोष्ठी का आयोजन न सिर्फ देश के दस राज्यों में कराया जा रहा है, बल्कि भूटान और नेपाल में भी इस अभियान को पहुंचाकर उन्होंने पर्यावरण के क्षेत्र में दुनिया के मानचित्र में एक अलग कीर्तिमान स्थापित कर दिया है. यही कारण है कि आज उनकी जीवनी पर आधारित पढ़ाई सीबीएसई और आईसीएसई के कक्षाओं में कराई जा रही है.

इस वर्ष भी उन्होंने नेपाल, भूटान समेत देश के 10 राज्यों में दो लाख निःशुल्क पौधरोपण और वितरण का लक्ष्य निर्धारित कर इस कार्यक्रम की विधिवत उद्घाटन जिले के छतरपुर प्रखंड के डाली पंचायत के कौशल नगर से एक जुलाई को कर दिया है. छतरपुर के कौशलनगर से शुरू कार्यक्रम यूपी के सोनभद्र पहुंच गया है. कोन इंटर कॉलेज में आयोजित कार्यक्रम की शुरुआत छात्र- छात्राओं ने राष्ट्रगान से किया. कार्यक्रम में बोलते हुए श्री कौशल ने कहा कि जिस अनुपात में जंगलों की कटाई हो रही है वैसी स्थिति में जल संकट के साथ ऑक्सीजन की संकट भी सन्निकट है. जिससे पृथ्वी के 84 लाख योनि जीव- जंतुओं के सिर पर खतरा मंडराने लगा है. परमाणु ऊर्जा, उद्योगों के चिमनी और वाहनों से निकल रहे प्रदूषण की जहर से जिंदगियां तबाह हो रही है. समय रहते इसपर काबू नहीं पाया गया तो सृष्टि का विनाश कोई रोक नहीं सकता. उन्होंने सभी लोगों को पर्यावरण धर्म को अपनाने की सलाह देते हुए कहा कि सोचों साथ क्या ले जाओगे, एक पौधा लगाओगे तो सात पीढ़ी तर जायेगा. उन्होंने छात्रों को पर्यावरण संरक्षण के कई टिप्स भी दिए.

प्रिंसिपल ने की कौशल के कार्यों और कार्यक्रम की सराहना

कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे कॉलेज के प्रिंसिपल विश्वनाथ प्रसाद ने पर्यावरणविद कौशल किशोर द्वारा इतने लंबे समय से पर्यावरण के क्षेत्र में चलाये जा रहे अभियान की सराहना करते हुए उनके प्रति कृतज्ञता जाहिर की. उन्होंने यह भी कहा कि कॉलेज परिसर में आज से दो वर्ष पूर्व पर्यावरणविद के हाथों लगाए गए पौधे लहलहा रहे हैं. उन्होंने कौशल किशोर के द्वारा बताए गए पर्यावरण के आठ मुलमंत्रों को हमेशा छात्रों को बताते रहने की बातें कही. कार्यक्रम का संचालन संस्था के उत्तर प्रदेश के अध्यक्ष राजकुमार जायसवाल ने किया. मौके पर संस्था के प्रधान सचिव पूनम जायसवाल, अरुण कुमार जायसवाल, सुचित कुमार, सत्येंद्र कुमार, कार्तिक प्रसाद, प्रदीप कुमार, पूर्णिमा कुमारी, मास्टर श्याम बिहारी, राजकुमार दुबे, अमरनाथ भारती, कमलेश कुमार, नानक चंद, अमित कुमार, हसीबुल अशरफ, कुमारी चंदा, रूपा कुमारी, उजाला कुमारी, सोनम कुमारी, अंजली कुमारी, राकेश कुमार सहित शिक्षक और कई छात्र-छात्राएं उपस्थित थी.



Palamu
65 Views
10-07-2019