मेदिनीनगर : शहरी क्षेत्र में पानी के लिए मचा हाहाकार

पलामू ब्रेकिंग न्यूज़

मेदिनीनगर : शहर में पेयजल के लिए हाहाकार मचा है। शनिवार को शहर के अधिकांश भागों में पेयजलापूर्ति नहीं हुई है। लोग पानी के लिए भाग दौड़ करते नजर आए। आलम यह है कि कई घरों में पेयजल खरीदकर पीना पड़ रहा है। लेकिन पेयजल स्वच्छता विभाग इसकी सुध नहीं ले रही है। प्राप्त जानकारी के अनुसार पंपूकल के किनारे स्थित कोयल नदी में पानी कम होने के कारण लगातार मोटर नहीं चल पा रहा है। इससे पेयजल की टंकी नहीं भर पा रही है। इसका परिणाम यह है कि शहर के सभी भागों में पेयजल लोगों को नहीं मिल रही है। जबकि नदी में खुदाई करने के बाद पर्याप्त पानी होने की संभावना है। लेकिन संवेदक और विभाग की लापरवाही के कारण नदी में खुदाई कार्य नहीं किया गया। इधर शहर में पेयजल के लिए हाहाकार मचने के बाद शनिवार को मेदिनीनगर नगर निगम के वार्ड नंबर 17 के वार्ड पार्षद सह स्थाई समिति सदस्य सुमित कुमार के नेतृत्व में कई लोग पंपूकल स्थित प्लांट पहुंचे। उन्होंने विभाग के संवेदक से बात कर नदी में खुदाई कार्य प्रारंभ कराया। श्री कुमार ने कहा कि पेयजल स्वच्छता विभाग की लापरवाही से शहर के लोगों को पेयजल नहीं मिल रहा है। कहा कि यदि नदी में पहले ही खुदाई कर दी जाती तो पेयजल की किल्लत नहीं होती। उन्होंने आरोप लगाया कि संवेदक एवं विभाग की सांठगांठ से शहर के लोग पेयजल से वंचित रह रहे हैं। इसके बाद संवेदक में पोकलेन मशीन मरम्मत कर नदी में खुदाई कार्य प्रारंभ किया। मौके पर भाजपा नेता पशुराम ओझा भी उपस्थित थे। उधर शहर की स्थिति यह है कि गांव से जो लोग शहर में आकर रहते हैं, वह बच्चों के स्कूल की गरमी छुट्टी होने का इंतजार कर रहे हैं, ताकि वह गांव जा सके। क्योंकि यहां जल संकट झेलना पड़ता है। अभी भी लोग शाम ढलने का इंतजार करते है। कई सभ्रांत घर के लोग चापानलों में लाइन लगाकर किसी तरह पानी की जुगाड़ करते हैं। मेदिनीनगर में पानी की समस्या काफी पुरानी हो गई है।

पहले ड्राइजोन के रूप में हमीदगंज व आबादगंज ही था। अब धीरे-धीरे कई इलाके इसके जद में आ गया है। सूदना पश्चिमी, सूदना पूर्वी, बैरिया, निमियां, बैंक कालोनी, बजराहा आदि इलाके भी ड्राइजोन हो चुके हैं शहर के लोग अब जार के पानी पर निर्भर है।

फेज टू की फाइल भवंर जाल में, मेदिनीनगर को पेयजल संकट से मुक्त कराने के लिए बनी सेकंड फेज की शहरी जलापूर्ति योजना खुद फाइलों के भंवरजाल में उलझी हुई है।14 वर्षों में फेज टू का काम पूरा नहीं हो सका। मेदिनीनगर नगर पर्षद से प्रमोट होकर नगर निगम बना है। इसलिए संभावना व्यक्त की जा रही है कि फेज टू के काम को अब विस्तार रूप दिया जाएगा। अभी तक काम पूरा नहीं हुआ। बॉक्स: फेज टू के लिए नए सिरे से सर्वे का काम प्रारंभ मेदिनीनगर नगर निगम बनने के बाद जो नए इलाके निगम से जुड़े हैं। उन इलाकों में पाइप लाइन बिछाने के लिए सर्वे का काम शुरू हो चुका है। पूर्व में फेज टू का जो प्रस्ताव था वह 32 किलोमीटर पाइप लाइन बिछाये जाने के साथ-साथ सात जलमीनार बनाने का था। इसमें दो जलमीनार का काम शुरू हुआ था। जो बीच में ही रुक गया यह योजना जब स्वीकृत हुई थी, तब यह कहा गया था कि इसके पूरा होने पर मेदिनीनगर शहर को 50 वर्षों तक पानी की समस्या को झेलना नहीं पड़ेगा. लेकिन फेज वन का भी जैकवेल का काम पूरा नहीं हुआ।

(कैपिटल न्यूज़ पलामू को लाइव देखने और एप डाउनलोड करने के लिये यहां क्लिक करें)

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र होकर निर्भीक और निष्पक्ष पत्रकारिता...

Share This Post

2 thoughts on “मेदिनीनगर : शहरी क्षेत्र में पानी के लिए मचा हाहाकार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *