व्यवस्था में कमी का रोना मत रोइए, काम कीजिए: सीपी सिंह

लातेहार

व्यवस्था की कमी का बहाना बनाकर सरकारी काम में लापरवाही करना अधिकारियों और कर्मियों की आदत बन गई है. सरकारी लोगों के इन आदतों से शायद सरकार के मंत्री भी वाकिफ हो गए हैं. लातेहार आए नगर विकास मंत्री सीपी सिंह ने अधिकारियों के साथ बैठक कर उन्हे नसीहत दी कि व्यवस्था की कमी का बहाना बनाकर रोना मत रोइए, काम कीजिए.

मंत्री सीपी सिंह ने लातेहार में जिला योजना समिति की बैठक में कहा कि कई ऐसे काम हैं जो मात्र लापरवाही के कारण बंद पड़े हैं. उन्होंने कहा कि लातेहार शहर के थाना चौक पर दो साल से पुलिया क्यों अधुरा है? क्या इसके बंद रहने का मुख्य कारण अधिकारियों की लापरवाही नहीं है. ऐसे ही कई अन्य योजनाएं हैं जो मात्र अधिकारियों की थोड़ी सी लापरवाही के कारण बंद पड़े हैं और लोग सरकार को कोसते हैं.

सरकार से लोगों की उम्मीद बढ़ी है

मंत्री सीपी सिंह ने कहा कि सरकार से लोगों को उम्मीद बढ़ी है. जाहिर सी बात है कि जो काम करेगा उससे अपेक्षा भी अधिक रहती है. ऐसे में यदि लापरवाही की गई तो यह गतल होगा और सरकार ऐसे लोगों पर कार्रवाई भी करेगी.

होल्डिंग टेक्स की करेंगे समीक्षा 

लातेहार शहरी क्षेत्र में  सुविधा के अभाव के बाद भी महानगरों की तरह होल्डिंग टैक्स लिए जाने के मामले में मंत्री ने कहा कि इस मामले की वह समीक्षा करेंगे. उन्होंने कहा कि सुविधा के अनुसार ही टैक्स लगेगा.

कई योजनाओं को मिली स्वीकृति

योजना समिति की बैठक में जिले के विकास को लेकर कई योजनाओं को स्वीकृति दी गई. मौके पर डीसी राजीव कुमार समेत अनेक अधिकारी उपस्थित थे.

(कैपिटल न्यूज़ पलामू को लाइव देखने और एप डाउनलोड करने के लिये यहां क्लिक करें)

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र होकर निर्भीक और निष्पक्ष पत्रकारिता...

Share This Post

2 thoughts on “व्यवस्था में कमी का रोना मत रोइए, काम कीजिए: सीपी सिंह

  1. Have you ever considered about adding a little bit
    more than just your articles? I mean, what you say is important and all.

    However imagine if you added some great pictures
    or videos to give your posts more, “pop”! Your content is excellent
    but with images and clips, this website could definitely be one of the very best in its niche.
    Amazing blog!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *