प्यार में बहकने पर मिली मौत की सजा, कहीं नवजात को तो कहीं घर की बेटी को

पलामू

पलामू – भले ही चर्चा ऑनर किलिंग का हो यानि देश में कोई भी घटना या दुर्घटना हो… और पलामू तेरे ही बाशिंदे तेरे सीने पर वही जख्म दे देते हैं जिन्हें पूरा देश महसूस करता है… पर पलामू उस दिन रोता है… और उसके साथ रोती है पलामू की कलम… क्यों लाख कोशिशों के बावजूद भी पिछड़ेपन का शिकार पलामू अपने जंगलीपन से उबर नहीं पा रहा है…। क्यूं हत्या ही एकमात्र उपाय शेष नजर आता है…?

आप सोच रहे होंगे कि ये क्या हो गया, जो इतना हाय तौबा मचा है… तो जान आप हैरत में पड़ जाऐंगे कि शादी के महज दो सप्ताह बाद ही दुल्हन ने बच्चे को जन्म दिया तो हायतौबा इतना मचा कि उस बच्चे को दुनिया में आने से पहले ही अलविदा कहना पड़ गया… लातेहार के छिपादोहर की घटना में चर्चा का बाजार जितना गर्म है उतना शर्म इस बात पर है कि बच्चे की मां और नानी ने ही इस कुकर्म को अंजाम दिया। दर असल दुल्हन विवाह से पहले ही एक लड़के से प्रेम करती थी, पर जब शादी के बाद ही गर्भवती होने की बात आई तो उसने सात माह में ही नवजात को मौत के नींद सुलाना बेहतर समझा, मगर जिम्मेवार मां और नानी सात माह में जन्म होने को मौत की वजह बता रहे हैं… और पुलिस मामले की जांच पड़ताल में जुटी है।

अब अगर बात करें पलामू जिला के हुसैनाबाद प्रखंड की तो यहां मामला जितना पेचिदा बनाया गया उतना था नहीं… गांव के ही रिश्ते में भाई बहन ने प्रेम के पींगे पढ़े… जिसे नाजायज मान परिवार समाज ने लड़की को ननिहाल भेज लड़के की शादी रचानी चाही, पर लड़की वापस गांव आ गयी, खुलासे में पलामू पुलिस ने ऑनर किंलिग से तो इनकार कर दिया पर सच यही है कि लड़की को उसके ही चाचा और गांव के लोगों ने हत्या कर हुसैनाबाद के जीतामाटी से दूर दुधिया पहाड़ी के पास गाड़ दिया। जैसे ही लड़की अपने घर आई उसके परिवार वालों से आरोपीयों ने मारपीट की, और लड़की की हत्या कर दी। हालांकि नक्सल प्रभावित इलाका होने के बावजूद पलामू पुलिस ने संज्ञान लिया और कड़ी कारवाई करते हुए महुदंड पिकेट के जवानों ने सर्च अभियान चला शव को खोज निकाल हत्याकांड का पर्दाफाश किया। जिसमें मृतिका की मां के लिखित आवेदन पर आरोपी चाचा राजेश भूइंया तो पुलिस के हत्थे चढ़ गया पर बाकी आरोपीयों की धर पकड़ में पुलिस जुट गई है… लेकिन दोनों घटनाओं में एक बात तो साफ हो गया कि घटना के बाद समाज की दुहाई देने से अच्छा है समाज में फिसल रही प्यार के नाम पर कदम को रोका जाए… मगर हत्या से नहीं… संस्कार और व्यवहार बातचीत से

कलम तेरी जिम्मेवारीयां बढ़ रही हैं…
चलना जरा संभलकर पलामू बिगड़ रहा है बदल रहा है…

(कैपिटल न्यूज़ पलामू को लाइव देखने और एप डाउनलोड करने के लिये यहां क्लिक करें)

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र होकर निर्भीक और निष्पक्ष पत्रकारिता...

Share This Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *