पलामू टाइगर रिजर्व समेत पूरे राज्य में बाघों की गिनती शुरू, लगाए गए सीसीटीवी और आधुनिक उपकरण

पलामू

पलामू : झारखंड के एक मात्र टाइगर रिजर्व एरिया पलामू टाइगर प्रोजेक्ट समेत पूरे राज्य में बाघों की गिनती शुरू हुई है. पलामू टाइगर रिजर्व बेतला नेशनल पार्क के अंतर्गत है और लातेहार, पालमू और गढ़वा के इलाके तक में फैला हुआ है. प्रत्येक चार वर्ष में बाघों की गिनती होती है, हालांकि टाइगर प्रोजेक्ट प्रत्येक वर्ष गिनती करवाता है.

इस बार बाघों की गिनती वैज्ञानिक तरीके से हो रही है, जिसके लिए कई आधुनिक उपकरण लगाए गए है. अकेले पलामू टाइगर रिजर्व एरिया में 450 से अधिक ट्रैकिंग कैमरा लगाया गया है. बाघ के स्कैट की भी जांच की जाएगी. पलामू टाइगर रिजर्व क्षेत्र में कम से कम 06 बाघ होने का अधिकारी दावा करते हैं. बाघों की गिनती के लिए टाइगर प्रोजेक्ट के कोर और बफर एरिया में बड़ी संख्या में ट्रैकर को लगाया गया है. पहले बाघों की पद चिन्ह से गिनती की जाती थी, लेकिन अब स्कैट की भी जांच की जाती है. बाघों के संभावित क्षेत्र में कैमरे लगाए गए हैं.

पुराने इतिहास वाले इलाके में भी बाघों की हो रही गिनती 

राज्य में पुराने इतिहास वाले इलाके में भी बाघों की गिनती हो रही है. जिस इलाके में दशकों पहले भी बाघ देखा गया है, उस इलाके में भी पता लगाया जा रहा है कि वहां बाघ है या नहीं. पलामू टाइगर रिजर्व के कोर एरिया के संरक्षक अनिल कुमार मिश्रा ने बताया कि पोस्ट मानसून बाघों की गिनती चल रही है, सारी तैयारी पूरी कर ली गई है. कैमरा लगाने का काम चल रहा है. बाघों की गिनती के लिए मैन पॉवर की कमी नहीं है. इससे पहले 2006, 2010 और 2014 में बाघों की गिनती हो चुकी है.

पलामू टाइगर रिजर्व 779 वर्ग किलोमीटर में है फैला हुआ

पलामू टाइगर रिजर्व 779 वर्ग किमिलोटर में फैला हुआ है. बाघों के संरक्षण के लिए पूरे देश में नौ टाइगर प्रोजेक्ट एरिया बनाए गए थे, जिसमें से एक पलामू भी था. 1982 में पलामू टाइगर रिजर्व एरिया में 55 बाघ थे, 2003-04 में यह संख्या 34 से 36 हो गई थी. सरकार ने 2022 तक बाघों की गिनती दुगना करने का लक्ष्य रखा है.

(कैपिटल न्यूज़ पलामू को लाइव देखने और एप डाउनलोड करने के लिये यहां क्लिक करें)

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र होकर निर्भीक और निष्पक्ष पत्रकारिता...

Share This Post

2 thoughts on “पलामू टाइगर रिजर्व समेत पूरे राज्य में बाघों की गिनती शुरू, लगाए गए सीसीटीवी और आधुनिक उपकरण

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *